11/12/2012

माँ तुम हो कितनी अनमोल

गोद में सिर रख कर के अपनी


जब लोरियां सुनाया करती थी तुम


बेखौफ ही नीद के आगोश में चला जाता था मैं

दूर जब से हुआ हूँ तुमसे



नीद भी ठीक से आती नही रात को



सर्द मौसम जब अपने आगोश में लेता था मुझे



चुप से ही पास आकर मेरे



प्यार से चादर उढा जाया करती थी तुम



अच्छा हूँ मैं तुम्हारा दुलारा हूँ मैं



हर पल ही जताती थी तुम



हो मुझे कोई पीड़ा तो दर्द से सिंहर उठती थी तुम



सिरहाने पर बैठकर अक्सर सिर को मेरे सहलाती थी तुम



माँ जब से दौड़ा जिंदगी की दौड़ में



दूर तुमसे होता गया



कभी इस नगर तो कभी उस नगर



अब उस प्यार के स्पर्श को तरस जाता हूँ मैं



लगता है कि जैसे कोई प्यास है जो कभी बुझती नहीं



हाँ माँ तुम हो कितनी अनमोल



और तुम्हारे वो मीठे बोल



हर पल ही याद आते 
हैं मुझे

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए