11/12/2012

उन्हें नफरत हुई सारे जहाँ से

उन्हें नफरत हुई सारे जहाँ से 
नयी दुनिया कोई लाये कहाँ से 

तुम्हारी बात लगती है मुझे तीर 
निगाह का काम लेते हो ज़बां से 

No comments:

Post a Comment