21/12/2012


जो खानदानी रईस है वो, रखते है मिजाज़ नर्म अपना...

तुम्हारा लहजा बता रहा है तुम्हारी दौलत नई नई है

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए