07/03/2013

ख़ुद को इतना भी मत बचाया कर 

बारिशें हों, तो भीग जाया कर 

धूप मायूस लौट जाती है 

छत पे कपड़े सुखाने आया कर.......!

No comments:

Post a Comment