04/04/2013

मीट चले मेरी उम्मीदों की तरह हर्फ़ मगर..

आज तक तेरे खतों से तेरी खुश्बु ना गयी..

No comments:

Post a Comment