10/04/2013

ज़िन्दगी है सो गुज़र रही है वरना 

हमें गुज़रे तो ज़माने हुए

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए