04/04/2013

जिस नगर भी जाएँ किस्से हैं कमबख्त दिल के, 

कोई ले के रो रहा है, कोई दे के रो रहा है...

No comments:

Post a Comment