10/04/2013

ना जाने क्यों रेत की तरह निकल जाते हैं हाथों से वो लोग.... 

जिन्हें हम ज़िंदगी समझ कर कभी खोना नहीं चाहते............!!

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए