04/04/2013


तेरी यादें भी हैं मेरे बचपन के खिलौने जैसी,

तन्हा होते हैं तो इन्हें ले कर बैठ जाते हैं...

No comments:

Post a Comment