10/04/2013

वो जो हाथ तक से छुने को, बे-अदबी समझता था,

गले से लगकर बहोत रोया, बिछडने से जरा पहले......

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए