27/05/2013

लिख लिख क मिटा दी हैं सब नज्में आज हमने..

जैसे बचपन में, सारे खिलोने तोड़ दिए थे गुस्से में!!

No comments:

Post a Comment