29/06/2013

"हमें एहबाब कि लंबी क़तारो से नही मतलब,

जो दिल से हमारा हो हमें वो एक शक़्स काफी है"..

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए