29/06/2013

ये वर्क वर्क तेरी दास्तां, ये सबक सबक तेरे तज़किरे

मैं करूँ तो कैसे करूँ अलग, तुझे ज़िन्दगी की किताब से

No comments:

Post a Comment