03/06/2013

वो अपना जिस्म सारा सौप देना मेरी आखो को 

मेरी पद्खने की कोशिश आपका अख़बार हो जाना 


Munavvar Rana

No comments:

Post a Comment