29/06/2013

"गर लफ्ज़ों में कर सकते बयान इंतेहा-ए-दर्द-ए-दिल,
लाख तेरा दिल पत्थर का सही, कब का मोम कर देते"

No comments:

Post a Comment