03/06/2013

रफ़्तार यूं तेज़ है ज़िन्दगी की आजकल ....

इतवार भी लगे है .... जैसे त्यौहार हो कोई ...

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए