29/06/2013

चंद उलझे हुए बे-रब्त सवालों की तरह 

ज़िंदगी आज परेशान है ख़यालों की तरह

No comments:

Post a Comment