29/06/2013

कभी कभी हमने अपने दिल को यूँ भी बहलाया है

जिन बातों को हम नहीं समझे, औरों को समझाया हैं

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए