16/08/2013

ये कोई गुजरे ज़माने की बीमारी रही होगी....
ज़िसका नाम बिगड़ कर 'मुहब्बत' हो गया |

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए