01/10/2013

तुम को सोचा तो हर सोच में खुश्बू उतरी
तुम को लिखा तो हर लफ्ज़ महकता देखा

No comments:

Post a Comment