29/10/2013

जंग लडनी थी हमें सबके निवाले के लिये 
और हम लडते रहे काबा- शिवाले के लिये

No comments:

Post a Comment