29/10/2013

साँस उलझी.. कभी होठों पे तबस्सुम आया..........
यूँ भी अक्सर तेरे आने की.. खबर आई है........

No comments:

Post a Comment