29/10/2013

कही पर दुआ का इक लफ्ज भी असर कर जाता हैं दोस्त....
तो कही बरसों की इबादत हार जाती हैं.

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए