29/10/2013

किसलिए देखते हो आईना.. 
तुम तो ख़ुद से भी ख़ूबसूरत हो..

No comments:

Post a Comment