10/10/2013

मेरा क़लम मेरे जज़्बात माँगने वाले
मुझे न माँग मेरा हाथ माँगने वाले

ये लोग कैसे अचानक अमीर बन बैठे
ये सब थे भीक मेरे साथ माँगने वाले

तमाम गाँव तेरे भोलपन पे हँसता है
धुएँ के अब्र से बरसात माँगने वाले

नहीं है सहल उसे काट लेना आँखों में
कुछ और माँग मेरी रात माँगने वाले

कभी बसंत में प्यासी जड़ों की चीख़ भी सुन
लुटे शजर से हरे पात माँगने वाले

तू अपने दश्त में प्यासा मरे तो बेहतर है
समंदरों से इनायात माँगने वाले

ज़फ़र गोरखपुरी

No comments:

Post a Comment

रंग बातें करें और बातों से ख़ुश्बू आए दर्द फूलों की तरह महके अगर तू आए