30/10/2015

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलाने में। 

No comments:

Post a Comment