29/06/2013

बेशक बहुत नाज़ है अपनों के रिश्तों पर, उनकी चाहत पर

एक दिन मेरी मौत पर आ कर सब कहेंगे -- कितनी देर और है ले जाने में

Tags:

0 Responses to “ ”

Post a Comment

Subscribe

Donec sed odio dui. Duis mollis, est non commodo luctus, nisi erat porttitor ligula, eget lacinia odio. Duis mollis

Designed by SpicyTricks