29/10/2013

उस काँच के गिलास में पड़ी, गरम चाय के दो घूंटो में ही थी,
और तुम ज़िन्दगी को कहाँ कहाँ ढूंढते रहे...!!!”

Tags:

0 Responses to “ ”

Post a Comment

Subscribe

Donec sed odio dui. Duis mollis, est non commodo luctus, nisi erat porttitor ligula, eget lacinia odio. Duis mollis

Designed by SpicyTricks