29/06/2013

बेशक बहुत नाज़ है अपनों के रिश्तों पर, उनकी चाहत पर

एक दिन मेरी मौत पर आ कर सब कहेंगे -- कितनी देर और है ले जाने में

No comments:

Post a Comment