29/06/2013

दुश्मनी जम कर करो पर ये गुंजाइश रहे

जब भी हम दोस्त बनें तो शर्मिंदा न हों

No comments:

Post a Comment