29/10/2013

उस काँच के गिलास में पड़ी, गरम चाय के दो घूंटो में ही थी,
और तुम ज़िन्दगी को कहाँ कहाँ ढूंढते रहे...!!!”

No comments:

Post a Comment